प्रिय पाठको,



जैसा कि आप जानते कि युपी पुलिस में कांस्टेबल के पद की रिक्तियां जारी की जा चुकी है और इस रिक्ति प्रक्रिया के अंतर्गत 41,500 पद है जो कि सभी उम्मीदरो के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है, जिसका लाभ आप सभी उम्मीदवारों को उठाना चाहिए और अपने लक्ष्य प्राप्ति के आपको कड़ी मेहनत करनीं चाहिए. आपके लक्ष्य प्राप्ति में सहायता करने के लिए SSCADDA हिंदी की प्रश्नोतरी की शुरुआत की है. आप यह प्रश्नोतरी को हल कीजिये और अपनी तैयारी को सुदृढं कीजिये.. 
निर्देश (1-10) : नीचे दिए गए वाक्यों में रिक्त स्थानों की उचित शब्दों द्वारा पूर्ति के लिए चार विकल्प दिए गए हैं. उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिये.
Q1. शिव का तांडव भी उतना ही मनोहारी है जितना कि .............
(a) रास
(b) महारास
(c) लास्य
(d) उल्लास


Q2. सभी भारतीय भगवद्गीता के ............ से परिचित हैं.
(a) गुणगान
(b) माहात्म्य
(c) नैरात्म्य
(d) अभिज्ञान


Q3. ............. का नाम जीवन है और स्थिरता का मृत्यु.
(a) स्थिति
(b) गति
(c) नियति
(d) सुमति


Q4. आप पधारिए और ............ ग्रहण कीजिए. 
(a) आसन्न
(b) व्यसन
(c) असन
(d) आसन


Q5. वृद्धा ने बौद्ध भिक्षु को ............. दी.
(a) दीक्षा
(b) परीक्षा
(c) भिक्षा
(d) बुभुक्षा


Q6. अंटार्कटिका पर चौथा अभियानद दल पहुँचा ही था कि बडे़ जोर का ............. तूफान आया. 
(a) हिमानी
(b) हिमाद्रि
(c) हिमांशु
(d) हिमिका


Q7. मेरे हृदय में उनके एक चित्र की ............ अब तक सजीव है. 
(a) स्तुति
(b) संस्तुति
(c) प्रशस्ति
(d) स्मृति


Q8. याचक को भी अपना ............. भोजन नहीं देना चाहिए.
(a) अवशिष्ट
(b) उच्छिष्ट
(c) गरिष्ठ
(d) उद्दिष्ट


Q9. जब आवै …………..धन,
सब धन धूरि समान.
(a) रजत
(b) स्वर्ण
(c) सन्तोष
(d) अश्व


Q10. युग-युग से ............. रूढ़ संस्कारों को विनष्ट करने में पर्याप्त समय लगेगा.
(a) वर्जित
(b) विहित
(c) मंचित
(d) संचित


निर्देश(11-15): नीचे दिए गए गद्यांश पर आधारित पांच प्रश्न दिए गये है. गद्यांश का अध्ययन सावधानीपूर्वक कीजिये और दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये.

कबीर ने समाज में रहकर समाज का बडे़ समीप से निरीक्षण किया. समाज में फैले बाह्याडम्बर, भेदभाव, साम्प्रदायिकता आदि का उन्होंने पुष्ट प्रमाण लेकर ऐसा दृढ़ विरोध किया कि किसी की हिम्मत नहीं हुई जो उनके अकाट्य तर्कों को काट सके. कबीर का व्यक्तित्व इतना ऊँचा था कि उनके सामने टिक सकने की हिम्मत किसी में नहीं थी. इस प्रकार उन्होंने समाज तथा धर्म की बुराइयों को निकाल-निकालकर सबके सामने रखा, ऊँचा नाम रखकर संसार को ठगने वालों के नकली चेहरों को सबको दिखाया और दीन-दलितों को ऊपर उठने का उपदेश देकर अपने व्यक्तित्व को सुधारकर सबके सामने एक महान् आदर्श प्रस्तुत कर सिद्धान्तों का निरूपण किया. कर्म, सेवा, अहिंसा तथा निर्गुण मार्ग का प्रसार किया. कर्मकाण्ड तथा मूर्तिपूजा का विरोध किया. अपनी साखियों, रमैनियों तथा सबदों को बोलचाल की भाषा में रचकर सबके सामने एक विशाल ज्ञानमार्ग खोला. इस प्रकार कबीर ने समन्वयवादी दृष्टिकोण अपनाया और कथनी- करनी की एकता पर बल दिया. वे महान् युगद्रष्टा, समाज-सुधारक तथा महान् कवि थे. उन्होंने हिन्दू, मुस्लिम के बीच समन्वय की धारा प्रवाहित कर दोनों को ही शीतलता प्रदान की. 

Q11. कबीर के सामने कोई नहीं टिक पाता था, क्योंकि कबीर- 
(a) उच्च शिक्षा प्राप्त विद्वान् और बहुश्रुत थे
(b) शास्त्रार्थ में अत्यन्त प्रवीण थे
(c) का व्यक्तित्व बहुत ऊँचा था
(d) का सामाजिक निरीक्षण तथ्यात्मक था


Q12. कबीर ने विरोध किया-
(a) आचरणहीन ढोंगियों का
(b) शोषकों और दलितों का
(c) साम्प्रदायिक सामंजस्य का
(d) शोषितों और पीड़ितों का


Q13. सन्त कबीर ने प्रशस्त किया-
(a) ज्ञानमार्ग
(b) भक्तिमार्ग
(c) वेद-मार्ग
(d) सत्य और अहिंसा का मार्ग
(e) इनमें से कोई नहीं

Q14. कबीर की रचनाओं की भाषा बोलचाल की भाषा थी, क्योंकि उनके उपदेश थे-
(a) असाधारण और असामान्य लोगों के लिए
(b) सम्पन्न एवं समृद्ध लोगों के लिए
(c) कवियों एवं लेखकों के लिए
(d) सर्वसाधारण के लिए


Q15. कबीर के साम्प्रदायिकता विरोधी तर्क अकाट्य थे, क्योंकि- 
(a) कबीर ने समाज का निरीक्षण बडे़ समीप से किया था
(b) उनके तर्क पुष्ट प्रमाणों पर आधारित थे
(c) वे इनसे व्यक्तिगत लाभ उठाना चाहते थे
(d) वे इनसे यशोपार्जन करना चाहते थे




You can also like to read:





   


You may also like to read:






CRACK SSC CGL 2017



More than 2400+ Candidates were selected in SSC CGL 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in SSC CGL last year opted for Adda247 Online Test Series.